11:45 am - Friday April 27, 2018

राष्ट्रपति ने डॉ. अम्बेडकर की जन्म स्थली पर अर्पित किये श्रद्धा-सुमन

भोपाल : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज बाबा साहेब डॉ. भीम राव अम्बेडकर की 127वीं जयंती पर महू स्थित उनकी जन्म-स्थली पर स्मारक में बाबा साहेब की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया और प्रतिमा के चरणों में पुष्प अर्पित किये।
राष्ट्रपति ने डॉ. अम्बेडकर स्मारक का भ्रमण कर वहां प्रदर्शित बाबा साहेब के जीवन-वृत्त पर आधारित फोटो गैलरी का अवलोकन किया। अम्बेडकर स्मारक संचालन समिति के अध्यक्ष भंते संघ शील एवं सचिव श्री मोहनराव वाकोडे ने राष्ट्रपति, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल एवं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पुष्पगुच्छ भेंट कर उनका स्वागत किया। इस दौरान केन्द्रीय सामाजिक न्याय मंत्री थावरचंद गेहलोत, अन्य जन-प्रतिनिधि और अम्बेडकर स्मारक संचालन समिति के पदाधिकारी भी मौजूद थे। राष्ट्रपति ने कहा है कि आज देश को समर नहीं, समरसता की जरूरत है। श्री कोविंद ने कहा कि बाबा साहेब ने हमेशा शांति, करूणा और अंहिसा का रास्ता चुना। राष्ट्र की अखण्डता के संदर्भ में बाबा साहेब कहते थे कि ‘वे पहले भारतीय हैं, बाद में भी भारतीय हैं और अंत में भी भारतीय हैं।’ उन्होंने नागरिकों से बाबा साहब के सपनों के भारत का निर्माण करने में योगदान देने का आव्हान किया। राष्ट्रपति ने नागरिकों से कहा कि जीवन को सार्थक बनाने के लिये बाबा साहेब के समरसता के संदेश को अपनाने का संकल्प लें। राष्ट्रपति इंदौर के समीप बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर की जन्मस्थली महू में आयोजित 127वें जयंती समारोह को संबोधित कर रहे थे। राष्ट्रपति ने भीम जन्म भूमि स्मारक जाकर भारत रत्न डॉ. भीमराव अम्बेडकर की प्रतिमा पर श्रद्धा-सुमन अर्पित किये और अनुयायियों के बीच बैठकर भोजन ग्रहण किया। राष्ट्रपति ने महू में हर साल अम्बेडकर महाकुंभ आयोजित करने के लिये मध्यप्रदेश सरकार की सराहना की। उन्होंने कहा कि डॉ. अम्बेडकर की जन्म स्थली महू नागरिकों के लिये प्रेरणास्त्रोत है। नई पीढ़ी को यह समझना होगा कि आधुनिक भारत के निर्माण की नींव बाबा साहेब ने रखी थी। दामोदर वैली, हीराकुंड जैसे बांध और वृहद बिजली परियोजनाएं लागू करने जैसे बड़े कामों के पीछे बाबा साहेब की प्रगतिशील सोच थी। डॉ. अम्बेडकर ने महिलाओं को मतदान का अधिकार दिलवाया। मजदूरों के काम के घंटे बारह से घटाकर आठ किये। महिलाओं को संपत्ति में बराबरी का अधिकार दिलवाया। भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना में भी उनका महत्वपूर्ण योगदान है।

Filed in: देश-विदेश, न्यूज़ टुडे, मध्य प्रदेश

Comments are closed.